1983: भारत की पहली विश्व कप जीत जिसने फैंटसी क्रिकेट में क्रांति ला दी।

0
578
1983 विश्व कप
Credits: BCCI

भारत में क्रिकेट सिर्फ एक खेल नहीं एक भावना है और लोग इस खेल के प्यार के लिए अपनी जान देने को तैयार हैं। क्रिकेट का प्रभाव हम सबके जीवन पर पड़ा है हुए 1983 में एक ऐसा क्षण था जहाँ से बदलाव की शुरुआत हुई, एक ऐसा क्षण रहा होगा जिसने हममें से बहुतों को इस खेल को और गंभीरता से लेने के लिए प्रेरित किया। आज भारत के पहले विश्व कप विजय के 37 वर्षों पर, हम उस समय पर एक नज़र डालेंगे जिसने भारत में क्रिकेट के पूरे क्षेत्र में क्रांति ला दी और भविष्य की कई पीढ़ियों को प्रेरित किया।

25 जून भारतीय क्रिकेट के लिए बहुत ही खास दिन है, न केवल भारत बनाम वेस्टइंडीज के दौरान कपिल देव के स्क्वाड के कारण, बल्कि इसलिए भी कि इस दिन भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ अपना पहला टेस्ट मैच साल 1932 में लॉर्ड्स में खेला था। किसे पता था, उस समय कि एक ही टर्फ पर, जिन्हें पहली बार टेस्ट का दर्जा मिला था, उसी जगह पर इतिहास बना देंगे।

वेस्ट इंडीज़ ने टॉस जीता

वेस्ट इंडीज़
वेस्ट इंडीज़ ने टॉस जीता

वेस्टइंडीज की खतरनाक गेंदबाजी मशीनरी, अंडरडॉग इंडिया का सामना करने के लिए तैयार थी और टॉस जीतने के बाद क्लाइव लॉयड पहले गेंदबाज़ी का फैसला लेने में संकोच नहीं किया। वेस्टइंडीज उन दिनों मार्शल, होल्डिंग, रॉबर्ट्स, गार्नर और गोम्स जैसे खिलाड़ियों से भरे हुए थे, जो अपनी गेंदबाज़ी नहीं आग उगलते थे। उस समय में, बाउंसर की संख्या की कोई सीमा नहीं थी जिससे आप बल्लेबाज़ को एक ही ओवर में हिट कर सकते हैं।

श्रीकांत और अमरनाथ की उड़ान

श्रीकांत
श्रीकांत और अमरनाथ की उड़ान

श्रीकांत ने मोहिंदर (26) के साथ 38 रन बनाए, जिससे भारत को शुरुआती विकेट के नुकसान से उबरना पड़ा। अमरनाथ के साथ-साथ वह वेस्टइंडीज के गेंदबाज़ों के शुरुआती हमले को स्थिर करने में सक्षम थे, लेकिन लंबे समय के लिए नहीं। जल्द ही वेस्टइंडीज के गेंदबाज़ों ने विकेट लेने शुरू कर दिए और 60 ओवर से कम  में 183 के मामूली स्कोर पर भारत की पूरी बल्लेबाजी यूनिट को हिला दिया। एक लक्ष्य जो होने वाले विश्व चैंपियंस के लगभग कुछ भी नहीं था।

तूफ़ानी विवियन

विवियन
तूफ़ानी विवियन

विवियन रिचर्ड्स चेज़ में माहिर थे और बहुत तेज़ भी। उन्होंने 117+ के स्ट्राइक रेट से 33 रन की तेज़ पारी खेली। अपनी ट्रेडमार्क स्टाइल में, उन्होंने क्रीज़ पर आते ही सात बार गेंद को बाउंडरी से पार कर दिया और भारत को नुकसान पहुँचाया। स्टैंड से भारतीय भीड़ फिनाले हारने की भावना से अपने घरों में वापस जाने लगी थी।

टर्निंग पॉइंट और जीत

जीत
टर्निंग पॉइंट और जीत

मदन लाल की डिलीवरी थी और विव ने हुक करने की कोशिश की, कपिल देव पीछे की ओर भागते हैं और उस समय के सबसे ऐतिहासिक और शानदार कैच लेते हैं। उसके बाद मोहिंदर अमरनाथ आते हैं और 3 अहम विकेट लेते हैं। भारतीयों की जीतने की उम्मीदें उत्पन्न होती हैं क्योंकि खेल का पासा पलट चूका है। 140 के स्कोर पर, अमरनाथ ने माइकल होल्डिंग को सामने देखा और अंपायर ने उंगली उठाई। मैच की स्मृति के रूप में अमरनाथ स्टंप उठाते हैं। लोग लॉर्ड्स में दौड़ना और जश्न मनाना शुरू करते हैं। मोहिंदर अमरनाथ को मैन ऑफ द सीरीज़ का पुरस्कार मिला और कपिल पाजी लॉर्ड्स में उस प्रतिष्ठित क्षण में ट्रॉफी उठाते हैं। भारतीय क्रिकेट तब एक भविष्य तेंदुलकर, गांगुली, द्रविड़, युवराज, हरभजन और कई और दिग्गजों का स्वागत करने के लिए तैयार था, जो इस घटना से प्रेरित हुए थे।

विश्व कप जीत
1983: भारत की पहली विश्व कप जीत

नए बोनान्ज़ा वीक में आप बल्लेबाज़ी ऐप  BONANZA50 जैसे कोड जमा करें जो आपको आपके बीबी वॉलेट में 50% तक बोनस मनी प्राप्त करने में मदद करेंगे। हमारे सोशल मीडिया हैंडल पर #DumHaiTohYahanKhel अभियान देखें और सुनिश्चित करें कि आप निशुल्क प्रवेश मैच के टिकट जीतने के लिए आने वाली प्रतियोगिताओं में भाग लेंगे।

बल्लेबाज़ी के साथ फैंटसी खेल के मैदान में खेलें और आप इस फ़ैंटेसी क्रिकेट सीज़न में असली कैश और करोड़ों के प्राइज़ जीतने का मौका पायें। घर पर रहें, घर पर खेलें, और सुरक्षित रहें।

ब्लॉग पसंद आया? नीचे कमेंट करके हमें बताएं। साथ ही, सबसे अमेज़िंग फ़ैंटेसी स्पोर्ट्स एक्सपीरियंस के लिए बल्लेबाज़ी ऐप डाउनलोड करना न भूलें।